मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाने और बेचने वालों पर 10 लाख जुर्माना लगाया

ग्वालियर. प्रशासन द्वारा मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाने और बेचने वालों पर कार्रवाई तेज कर दी गई है। 2 डेयरी और एक मिठाई की दुकान सहित 4 प्रतिष्ठानों पर अपर कलेक्टर अनूपकुमार सिंह ने 10 लाख रुपए का जुर्माना किया है। इन प्रतिष्ठानों से मिठाई और अन्य खाद्य सामग्री के सैंपल लिए गए थे जो जांच में अमानक पाए गए है वहीं जुलाई में लिए गए 10 सैंपलों की रिपोर्ट भी भोपाल से आ गई है इनमें मोर बाजार से लिए गए 4 मावा के सैंपल और एक अन्य स्थान से लिया मिक्स दूध का सैंपल अमानक पाया गया है अब इन पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।
जीवाजी विश्वविद्यालय की कैंटीन पर कार्यवाही
खाद्य विभाग की टीम द्वारा जीवाजी विश्वविद्यालय की कैंटीन की जांच की गई और साईंबाबा मंदिर के पास स्थिति एक दुकान से मिठाई के सैंपल लिए गए। कटीघाटी स्थित गुप्ता मिष्ठान भंडार पर 3 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। व्यवसाई मिथ्याछाप खाद्य पदार्थ विक्रय करने क साथ बिना पंजीयन क कारोबार कर रहा था। हजीरा में संचालित नरवरिया डेयरी पर 2 लाख का जुर्माना लगाया। डेयरी संचालक अमानक खाद्य पदार्थ विक्रय के साथ बिना पंजीयन के व्यवसाय कर रहा था। शिंदे की छावनी क्षेत्र में संचालित रामू डेयरी पर 2 लाख रुपए का जुर्माना किया है। यह डेयरी भी बिना लाइसेंस के चल रही थी। विक्टोरियन विंटेज पर 3 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है यहां अमानक स्तर के खाद्य पदार्थों का विक्रय किया जा रहा था।
कार्रवाई जारी रहेगी
नियमों का पालन न करने और अमानक खाद्य पदार्थ विक्रय करने पर प्रतिष्ठानों पर अर्थदंड लगाया गया है साथ ही सभी एसडीएम, सहसीलदार, फूड एंड सेफ्टी के अधिकारियों को जांच जारी रखने के निर्देश दिए है ताकि आमजन को अमानक खाद्य पदार्थों से होने वाले हानिकारक प्रभावों से बचाया जा सके। सैंपलिंग की कार्रवाई लगातार जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online