शताब्दी एक्सप्रेस 180 किमी प्रतिघंटा की स्पीड़ दौड़ेगी

नई दिल्ली. मोदी सरकार पार्ट 2 में रेलवे ने जिस दिशा में कदम बढ़ाया है वह है रेलवे के ढांचे को मजबूत करना और देश में रेलों की रफ्तार बढ़ाना। देश के महत्वपूर्ण रूटों पर रफ्तार बढ़ाने के लिये एक महत्वपूर्ण इंजन तैयार कर लिया गया है। आपको बता दें कि मिशन रफ्तार के तहत रेलवे देश भर में अपने नेटवर्क पर रेलों की औसत रफ्तार को बढ़ाने के लिये काम कर रहा है।
भारतीय रेलवे ने पश्चिम बंगाल स्थित चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स फैक्ट्री में जो इंजन तैयार किया गया है वह 180 किमी प्रति घंटा के रफ्तार से दौड़ने के सक्षम हैं यह इंजन पूरी तरह से देश में ही तैयार किया गया है रेलवे ने कहा है कि नये लोकोमोटिव इंजन से प्रीमियम रेलों का अधिक गति से संचालन हो सकेगा।
इनमें लगेगा
अभी देश में चलने वाली रेल शताब्दी एक्सप्रेस की स्पीड अभी 155 किमी प्रति घंटा है। रेलमंत्री पीयूष गोयल कहते हैं कि नये इंजन को शताब्दी, राजधानी और दूरंतो एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में लगाया जायेगा। इसमें ट्रेनों की रफ्तार बढ़ेगी और रेलों को गति मिल सकेगी जो अब तक नहीं थी। इंजन मार्च 2019 में ही तैयार हो गया था पर अब इसे टॉस्क सौंपा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online