स्वतंत्रता दिवस समारोह में मीसाबंदी को इस बार सम्मानित नहीं किया जाएगा

भोपाल. स्वतंत्रता दिवस समारोह में इस बार मीसाबंदी न तो विशेष अतिथि होंगे और न ही उन्हें सम्मानित किया जाएगा। राज्य सरकार ने पिछले सालों में इस मौके पर किए जाने वाले उनके सम्मान के कार्यक्रम को इस बार टाल दिया है इन्हें मिलने वाली पेंशन पर कई जिलों में जांच के नाम पर रोक लगाने का काम सरकार पहले ही कर चुकी है।
शिवराज के कार्यकाल में मीसाबंदियों को सम्मानित किया
शिवराज सरकार के कार्यकाल में मीसाबंदियों (आपातकाल के दौरान जेल में रहे लोगों) को स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में सम्मानित किया जाता रहा है इसके लिए जीएडी द्वारा जारी किए जाने वाले निर्देशों में 8वें क्रम पर यह निर्देश पिछले साल तक जारी होता रहा है पर इस साल कलेक्टरों को भेजे गए स्वतंत्रता दिवस समारोह के निर्देश से मीसाबंदियों से संबंधित निर्देश हटा दिए गए है। इसके बाद यह तय हो गया है कि कांग्रेस की सरकार में अब मीसाबंदियों को सम्मान स्वतंत्रता दिवस पर नहीं किया जाएगा। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मीसाबंदियों को दी जाने वाली पेंशन भौतिक सत्यापन के बाद ही दिए जाने के आदेश जीएडी ने दिए थे इसके बाद कुछ जिलों में सत्यापन के बाद तो पेंशन की जाने लगी है पर लगभग 2 दर्जन जिलों में अभी भी पेंशन नहीं मिल रही है।
स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां जोरों पर
देशभर में स्वतंत्रता दिवस समारोह बनाने की तैयारियां जोरों पर है। स्कूलों में जहां सांस्कृति कार्यक्रमों को लेकर पूर्वाभ्यास कराया जा रहा है वहीं झंडा व बिल्ला की भी बिक्री शुरू हो गई है इसके साथ ही सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। जिला प्रशासन भी स्वतंत्रता दिवस पर होने वाले कार्यक्रमों की जिम्मेदारी विभागवार सौंप रहा है ताकि आजादी के पर्व को धूमधाम से मनाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online