जीवाएमसी मैदान में चल रही भागवत कथा, राष्ट्रवाद की झलक दिखी

ग्वालियर. जीवाएमसी मैदान में चल रही भागवत कथा के सातवें दिन जीणमाता का श्रंगार भारत माता के रूप में किया गया। कथा स्थल पर मंगलवार को भजनों के साथ देश भक्ति के तराने गूंजे तो माहौल राष्ट्र भक्तिमय हो गया। भागवत कथा में चल रहे देश भक्ति के गीतों पर भक्तों ने राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे लहराए। भागवत में शामिल युवतियां भी भारत माता के स्वरूप में सजकर आई थीं और हाथों में तिरंगे लिए हुए थीं।
शास्त्री ने कहा कि राष्ट्र भक्ति सर्वोपरि
देवी भागवत कथा सुनाते हुए कथा वाचक हेमलता शास्त्री ने कहा कि राष्ट्र भक्ति सर्वोपरि होती है। हर व्यक्ति के लिए सबसे पहले राष्ट्र होता है उसके बाद ही कुछ और उन्होंने कहा कि हमें राष्ट्र का सम्मान करना चाहिए। हर नागरिक को सरकार के नियमों का पालन करना चाहिए जिस प्रकार हम हमें अपनी गल्ली-मोहल्ले, शहर और कार्य स्थल को भी स्वच्छ रखना चाहिए। यह भी राष्ट्रभक्ति है। भागवात में हेमलता शास्त्री ने देश भक्ति पूर्ण गीत भी सुनाए। भागवत में भक्तों ने भारत माता के जयकारे लगाए।
हर व्यक्ति एक अजीब सी हड़बड़ी में
हेमलता शास्त्री ने कहा कि आज के इस आपाधापी के माहौल में लोगों के पास अपनेे परिवार के लिए भी समय नहीं है। हर व्यक्ति एक अजीब सी हड़बड़ी में है। इसका परिणाम है परिवारों को विघटन और सदस्यों के बीच दूरी। यदि इस पारिवारिक बिखराव को रोकना है तो परिवार में एक साथ भोजन और भजन का संस्कार डालना होगा। यह काम हर रोज करना होगां जब हर सदस्य एक साथ भोजन करेगा और एक साथ भगवान की पूजा करेगा तो परिवार में एक सकारात्मक ऊर्जा का निर्माण होगा जिससे परिवार के सदस्य एक दूसरे के करीब आएंगे और परिवारों में खुशहाली आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online