कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरी, भाजपा के पक्ष में 105 वोट- कुमारस्वामी के पक्ष में 99

बेंगलुरू. कर्नाटक में लगभग 14 माह पुरानी कुमारस्वामी सरकार गिर गई है। कुमारस्वामी सरकार विश्वास मत के दौरान बहुमत हासिल नहीं कर सकी। भाजपा के पक्ष में 105 वोट पड़े जबकि कुमारस्वामी के पक्ष में 99 वोट मिले। कुमारस्वामी सरकार को 9 वोट कम मिले। 23 मई 2018 को कर्नाटक में कुमारस्वामी की सरकार बनी थी। कुमारस्वामी सरकार गिरने के बाद येदियुरप्पा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कुमारस्वामी की हार लोकतंत्र की जीत है। कुमारस्वामी सरकार से कर्नाटक परेशान था। मैं कर्नाटक के लोगों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि अब राज्य में विकास का नया युग शुरू होगा।
भ्रष्ट और अपवित्र गठबंधन के युग का अंत
कर्नाटक भाजपा ने कुमारस्वामी सरकार के गिरने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह कर्नाटक की जनता की जीत है। भ्रष्ट और अपवित्र गठबंधन के युग का अंत हुआ। हम आपको स्थिर और सक्षम सरकार का वादा करते हैं। हम मिलकर कर्नाटक को समृद्ध बनाएंगे। इससे पहले बहस का जवाब देते हुए कुमारस्वामी ने कहा मैं फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हूं इससे पहले उन्होंने राज्य की जनता और स्पीकर से माफी मांगी और कहा कि वह एक्सीडेंटल मुख्यमंत्री है हमेशा राजनीति से दूर रहना चाहते थे।
शहर में धारा 144 लगा दी गई
शहर में शाम 6 बजे से अगले 48 घंटे के लिए धारा 144 लगा दी गई है। बेंगलुरू पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा आज और कल पूरे शहर में धारा 144 लागू रहेगी और सभी पब, शराब की दुकानें 25 जुलाई तक बंद रहेंगी यदि कोई इसका उल्लंघन करेगा तो उसे दंडित किया जाएगा।
करोड़ों रुपये देकर विधायकों की खरीदा
उधर कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आरोप लगाया है कि करोड़ों रुपये देकर विधायकों की खरीद फरोख्त की जा रही है उन्होंने यही भी कहा कि कांग्रेस के बागी विधायकों को अयोग्य घोषित किया जाएगा। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा 25 करोड़, 30 करोड़, 50 करोड़ इतना पैसा कहां से आ रहा है वो विधायक बागी अयोग्य घोषित कर दिए जाएंगे इनकी राजनीतिक समाधि बनाई जाएगी। 2013 से दल-बदल करने वाले हारते रहे हैं। यही अंजाम इस बार इस्तीफा देने वालों का होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online