सायबर अपराध अनुसंधान में विशेषज्ञता हासिल करने के सतत् प्रयास हों. डीजीपी

भोपाल पुलिस महानिदेशक विजयकुमार सिंह ने कहा सायबर अपराध रोकने के लिए मध्‍यप्रदेश में अच्‍छा काम हुआ है। पुलिस के लिए सायबर सुरक्षा बड़ी चुनौती है। सायबर अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण एवं विवेचना के लिए विशेषज्ञता हासिल करने के प्रयास सतत् रूप से जारी रखे जाएं। श्री सिंह पुलिस अधिकारियों के लिए सायबर अपराध अनुसंधान विवेचना पर शुरू हुए पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे।
भारत सरकार की सीसीपीडब्‍ल्‍यूसी ;महिलाओं.बच्‍चों के साथ होने वाले सायबर अपराधों पर नियंत्रणद्ध योजना के तहत यह प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
पुलिस महानिदेशक ने कहा कि खुशी की बात है पु‍लिस से जुड़ रहे नए अधिकारी सायबर के अच्‍छे जानकार है। नए अधिकारी न केवल खुद को सायबर अपराध अनुसंधान में अपडेट करते रहें बल्कि अपने पुराने साथियों को भी इस काम में दक्ष बनाए। उन्‍होंने कहा इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम जिले व जोन स्‍तर पर भी आयोजित किए जाएंए जिससे सायबर अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए स्‍था‍नीय स्‍तर पर मजबूत टीमें तैयार हो सकें। पुलिस महानिदेशक ने व्‍यवसायिक दृष्टिकोण के साथ सायबर अपराधों की विवेचना करने पर विशेष बल दिया। साथ ही कहा कि सायबर अपराध अनुसंधान से संबंधित कार्य पूरी सावधानी के साथ अंजाम दिए जाएं।
विशेष पुलिस महानिदेशक सायबर पुरूषोत्‍तम शर्मा ने कहा कि आगामी दिसंबर माह तक प्रदेश के लगभग एक हजार पुलिस अधिकारियों को सायबर अपराध अनुसंधान का प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही न्‍यायिक सेवा के अधिकारी व अभियोजन अधिकारियों को भी प्रशिक्षण में शामिल किया गया है। उन्‍होंने बताया कि सायबर अपराध अनुसंधान के प्रशिक्षण के लिए एक और कम्‍प्‍यूटर लैब विकसित की गई है। इसलिए अब 30.30 के बैच के स्‍थान पर 60 अधिकारियों के बैच को प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्‍होंने बताया कि सायबर पुलिस का प्रयास है कि हर जिलें में सायबर अपराध अनुसंधान के लिए 40 से 50 पुलिस अधिकारी तैयार हो जाएं। श्री शर्मा ने कहा कि जिला स्‍तर पर भी सायबर लैब बनाने के प्रयास भी जारी है।
इस अवसर पर अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक सायबर राजेश गुप्‍ता, उप पुलिस महानिरीक्षक सायबर निरंजन वीण् वायंगणकर, सहायक पुलिस महानिरीक्षक सायबर प्रशिक्षण शशिकांत शुक्‍ला व विधि विशेषज्ञ निशित दीक्षित मंचासीन थे। पुलिस अधीक्षक सायबर विकास शहवाल ने सायबर पुलिस की प्रस्‍तावित योजनाओं पर प्रकाश डाला। उन्‍होंने कहा कि मध्‍यप्रदेश में इंट्रीग्रेटेड कमांड सेंटर स्‍थापित किया जाएगा। साथ ही सायबर मुख्‍यालय में अत्‍याधुनिक टूल्‍स जुटाए जा रहे हैं। प्रदेश के पुलिस अधिकारियों को सायबर अपराध अनुसंधान में अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर भी प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। कार्यक्रम का संचालन पुलिस अधीक्षक सायबर इंदौर जितेन्‍द्र सिंह ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online