गोवा, कर्नाटक में सियासी उठापटक के बाद कमलनाथ सरकार में हलचल- नरोत्तम मिश्रा

भोपाल. गोवा और कर्नाटक में राज्य सरकार को लेकर चल रही सियासी उठापटक की धमक मध्य प्रदेश में भी पहुंच गई है। यहां भी कांग्रेस विधायकों की गतिविधि पर सबकी नजर है कांग्रेस विधायक क्या कर रहे हैं और कहां जा रहे हैं ये जानने के लिए केवल कांग्रेस फिक्रमंद नहीं है बल्कि भाजपा भी सक्रिय हो रही है। जब यह खबर आती है कि कांग्रेस के एक नेता ने अचानक डिनर की दावत दी है।
गोवा-कर्नाटक के रास्ते मॉनसून मप्र आ रहा- नरोत्तम मिश्रा
भाजपा विधायक और मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार के कैबिनेट मिनिस्टर रहे नरोत्तम मिश्रा ने जब इसी बात पर एक शिगूफा छेड़ दिया कि गोवा और कर्नाटक के रास्ते मॉनसून मध्यप्रदेश आ रहा है और झमाझम बरसात की संभावना है तो विधानसभा में एक नई बहसबाजी शुरू हो गई। बहस इस बात को लेकर कि कहीं यह दावत विधायकों की इमरजेंसी परेड कराकर ये साबित तो करने की तो नहीं कि 121 विधायक एकसाथ हैं और मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार मजबूत है।
121 विधायको के साथ डिनर किया
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने डिनर में विधायको से कहा मध्यप्रदेश में गोवा और कर्नाटक जैसी स्थिति नहीं है। डिनर को लेकर कोई डिप्लोमेसी नही है। कमलनाथ ने कहा हमने डिनर पर दिल्ली को लेकर चर्चा की है। कमलनाथ और सिंधिया की मौजूदगी में ये तस्वीरें दिल्ली में बैठे उन कांग्रेस दिग्गजों के लिए तसल्ली देने वाली थी जो गोवा और कर्नाटक में कांग्रेसी विधायकों के छिटकने का तजुर्बा करने के बाद मध्यप्रदेश के मामले में चिंता कर रहे थे।
भाजपा के लोग बिना सत्ता के छटपटा रहे
विधानसभा में नरोत्तम मिश्रा ने स्पीकर से मुखातिब होकर एक सवाल पूछ लिया कि किसी ने वॉट्सएप मैसेज भेजा है। गोवा ओर कर्नाटक के रास्ते मॉनसून मध्यप्रदेश पहुंच रहा है जल्द ही यहां मानसूनी बरसात होगी इसके बाद सियासी हलकों में इस सवाल ने बवाल मचाया फिर वित्तमंत्री तरूण भनोत ने कहा गोवा और कर्नाटक में भाजपा ने अपने चरित्र का प्रदर्शन किया है लेकिन हमें चिंता नहीं है। हम मिलकर एक जगह होकर भोजन करते है। इन लोगों को इसमें भी राजनीति दिखती है तो ये परेशानी है। मॉनसून की आस सूखे जलाशयों को है बीजेपी के लोग बिना सत्ता के छटपटा रहे हैं लेकिन ये सत्ता के भूखे सियासत के ये सूखे जलाशय कभी करने वाले नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online