डायबिटीज के लिये एम्स और सीसीआरएएस मिलकर नये शोध कर रहा-आयुष मंत्रालय

नई दिल्ली. केन्द्रीय आयुष मंत्री श्रीपाद नाईक का कहना है कि आयुर्वेद के क्षेत्र में नई दवा को तलाशने का काम किया जा रहा है मधुमेह (डायबिटीज) रोग में संबंध दिल्ली एम्स के विशेषज्ञों के साथ आयुष मंत्रालय के केन्द्रीय आयुर्वेदीय विज्ञान अनुसंधान परिषद (सीसीआरएएस) के वैज्ञानिकों ने नये शोधों पर काम शुरू कर दिया है। इसमें भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के वैज्ञानिकों से भी सहयोग लिया जा रहा है।
राज्यसभा में मंत्री नाईक ने बताया कि आयुर्वेद के क्षेत्र में अब तक 645 एकल और 202 सम्मिश्रित औषधियों के गुणवत्ता मानक प्रस्तुत किए जा चुके हैं। इससे पहले राज्यसभा में एक प्रश्न के जवाब में मंत्री नाईक ने कहा था कि वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद ;सीएसआईआरद्ध द्वारा मधुमेह ;डायबिटीजद्ध के टाइप.2 मरीजों के लिए वैज्ञानिक तरीके से विकसित बीजीआर. 34 दवा बाजार में उपलब्ध है। टाइप.2 डायबिटीज के मरीज इंसुलिन के इंजेक्शन पर निर्भर नहीं होते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online