पुणे में बिम्सटेक देशों का पहला सैन्य अभ्यास, नेपाल ने सेना भेजने से किया मना

नई दिल्ली. भारत में सोमवार से शुरू हो रहे बिम्सटेक देशों के पहले सैन्य अभ्यास में नेपाल भाग नहीं लेगा। नेपाली मीडिया  के अनुसार सैन्य अभ्यास को लेकर सत्तारूढ़ दल के नेताओं में असंतोष था इसलिए पीएम केपी ओली ने इसे रद्द करने का फैसला लिया। यह ड्रिल पुणे में एक हफ्ते तक चलेगी। काठमांडु पोस्ट के अनुसार विशेषज्ञों ने कहा था कि अभ्यास के लिए कूटनीतिक समझौता नहीं होने से नेपाल को इसका कोई लाभ नहीं मिलेगा। संबंधित मंत्रालय इस पर जल्द ही बयान जारी करेगा।
रखा था सैन्य अभ्यास का प्रस्ताव
इस वर्ष दिल्ली में बिम्सटेक देशों के सैन्य अधिकारियों की बैठक हुई थी। इसके बाद भारतीय सेना ने जून में संयुक्त सैन्य अभ्यास का प्रस्ताव रखा था। बिम्सटेक 6 देशों का समूह है। इसमें भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, श्रीलंका, थाईलैंड, भूटान और नेपाल शामिल हैं। इसका उद्देश्य बंगाल की खाड़ी से जुड़े देशों को आर्थिक और तकनीकी सहयोग प्रदान करना है।
चीन और नेपाल के बीच नजदीकियां बढ़ीं
इससे पहले शुक्रवार को चीन अपने 4 बंदरगाह और 3 लैंड पोर्ट को उपयोग करने की अनुमति नेपाल को दे चुका है। ऐसे में चारों तरफ जमीन से घिरे नेपाल की निर्भरता भारत पर काफी हद तक कम हो जाएगी। पड़ोसी देशों में प्रभाव बढ़ाने के लिए चीन पहले कर्ज बांटने की नीति अपना रहा था। अब वह अपने संसाधनों का उपयोग करने की छूट दे रहा है। भारत के लिए यह चिंताजनक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online