अब आये साला मेरे दरवाजे चप्पलों से मारूंगी-फूलवती, श्रमिक महिला

ग्वालियर. साला कमीना अब कि मेरे दरवाजे आये वोट मांगने के लिये चप्पल से मारूंगी कल से मेरी बच्ची बेहोश हैं यह आक्रोश खेत में काम कर रही श्रमिक महिला ने जब मुरार नदी के खेत में लगी फसल उजाड़ने के मौके पर निगम अधिकारियों को खरी खोटी सुनाते हुए कहीं। यहां पर हमारा परिवार खेती अपने दादा-दादी और सास ससुर के समय लगभग 50 वर्षो से कर रही हूं हर वर्ष 15 हजार रूपये वकील लल्ला बाथम को देते हैं, यह आक्रोशित शब्द श्रमिक महिला फूलवती ने जनप्रति के लिये कही।
आधा दर्जन मकान हटाये
मदालखत अमले ने भारीविरोध के बावजूददोपहर तक आधा दर्जन से अधिक मकानों पर बुलडोजर चलाकर इन्हें जमींदोज कर दिया। यह कार्यवाही शाम तक जारी रहीं, वहीं कलफिर सुबह से शुरू हो जायेगी। इस बीच नदी किनारे के लगभग 4 किमी क्षेत्र से अतिक्रमण हआया जाना है। कार्यवाही के दौरान तत्कालीन एसडीएम पुष्पा पुषाम, तहसीलदार नरेश गुप्ता, अपर आयुक्त एपीएस भदौरिया, सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा, भवन अधिकारी महेन्द्र अग्रवाल आदि मौके पर मौजूद रहें।
मुरार नदी से अतिक्रमण हटाने का यह दूसरा दिन था, जब नगर निगम के उपायुक्त एपीएस भदौरिया, शिशिर श्रीवास्तव भारी पुलिस बल के साथ 2 जेसीबी मशीनों के साथ अतिक्रमण हटाने का काम कर रहे थे। मुरार नदी में लगी जिसमें तुरई, मूली और बाउण्ड्रीवॉल नदी के किनारे बने मकानों को पूरी तरह से हटाने का लक्ष्य था।
किसी को बख्शा नहीं जायेगा
मुरार नदी किनारे किये गये अतिक्रमण हटाये जायेंगे, आज भी यह कार्यवाही जारी है आगे भी जारी रहेगी। किसी को भी बख्शा नहीं जायेगा और न ही विरोध सहन किया जायेगा।
सत्येन्द्र यादव, भवन अधिकारी, नगरनिगम ग्वालियर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online