धोखाधड़ी से प्रभावित व्यवसाईयों एवं हुण्डी दलालों की एक बैठक ‘‘चेम्बर भवन’’ में सम्पन्न

ग्वालियर. शहर के व्यवसाईयों के साथ लगातार हो रही आर्थिक धोखाधड़ी पर प्रभावी अंकुश लगाने की दृष्टि से एक कारगर योजना बनाने हेतु एक अहम् बैठक का आयोजन आज चेम्बर ऑफ कॉमर्स में किया गया । उक्त बैठक में चेम्बर के पदाधिकारियों के साथ.साथ पीड़ित व्यवसाई एवं हुण्डी दलाल बड़ी संख्या में उपस्थित थे ।
बैठक में जिन प्रमुख बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा
नकद के पैसे पर कार्यवाही कैसे हो सकती है । ब्रोकर्स का सामंजस्य कैसे बैठाया जाए एवं उनका क्या दायित्व होना चाहिए । जो पैसा लिए बैठा है और वह अपना व्यापार कर रहा है, उन पर क्या कार्यवाही हो सकती है । जो व्यवसाई असफल हुए हैं, उनको उनकी वर्तमान स्थिति अनुसार विभाजित करना चाहिए । हुण्डी व्यवसाय को व्यवस्थित करने के प्रयास होने चाहिए । हुण्डी लेनदेन के नियमों का निर्माण किया जाएगा । डिफाल्टर, मतलब जो मार्केट का पैसा नहीं दे रहा है, उसकी सदस्यता समाप्त होनी चाहिए । ब्रोकर्स की प्रतिमाह बैठक होनी चाहिए एवं उनका डाटा शेयर होना चाहिए । जो पार्टी असफल हुई है, उनको बुलाकर चर्चा की जाए । जाँच एवं निर्णय समिति का निर्माण होना चाहिए । प्रारम्भ में पाँच डिफाल्टर को सूचीबद्ध किया जाए आदि बिन्दु शामिल थे ।
अंत में बैठक की अध्यक्षता कर रहे, अध्यक्ष विजय गोयल ने व्यवस्था दी कि दलालों की बैठक चेम्बर भवन में आहूत की जाएगी, जिसमें दलाल अपना डाटा शेयर करें, ताकि एक ही व्यक्ति पर कई दलालों के माध्यम से लिमिट से अधिक पैसा नहीं पहुँच सकें।
इसके साथ ही शहर के बड़े डिफाल्टर्स को चिन्हित कर, चेम्बर में बुलाकर चर्चा की जाएगी एवं साहूकारों की भी पृथक से एक बैठक आयोजित की जाएगी । व्यापारियों के नगद दिए गए पैसे पर वित्तीय सलाहकारों के साथ बैठक की जाएगी । धारा 138 के प्रकरणों के संबंध में विधि विशेषज्ञों के साथ बैठक की जाएगी । इसके साथ ही, जाँच एवं निर्णय समिति के संबंध में भी कार्यवाही की जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online