प्रेमजाल में फंसाया सेना के र्क्ल्क को विदेश महिला ने, पुलवामा और बालाकोट हमले के बाद भी संपर्क में रहा

भोपाल. सैन संस्थानों की गोपनीय जानकारी विदेशी महिला को ली करने के आरोप में गुरूवार को इन्दौर के महू से अरेस्ट अविनाश कुमार के बारे में मप्र एटीएस को कई महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है। सूत्रों के अनुसार पुलवामा अटैक और उसके हुई बालाकोट एयर स्ट्राइक के समय भी अविनाश विदेशी महिला से संपर्क बनाये हुए था।
जांच एजेंसी को शक है कि उसने वीडियो कॉलिंग कर सेना के मूवमेंट की जानकारी हनी ट्रेप को दी और उससे स्वयं को राजस्थान का बताकर लगातार से की जानकारियां हासिल कर रही थी। मिलिट्री हैड क्वार्टर ऑफ वार (महू) में बॉर्डर पर मिलिट्री की हर गतिविधि की जानकारी रहती है। जांच एजेंसी ने बताया है कि यहां के और भी कुछ लोग हैं जिनपर नजर रखी जा रही है।एटीएस ने शुक्रवार की दोपहर अविनाश को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया। पूछताछ और रिकवरी का हवाला देकर टीम ने उसकी रिमाण्ड अदालत से मांगी। अदालत ने आरोपी को 26 मई तक रिमाण्ड भेजने के आदेश दिये हैं। उसे आईपीएसी की धारा 123 के तहत आरोपी बनाये गये हैं। इसके तहत 10 वर्ष तक की सजा का प्रावधान हैं।
सेना के मूवमेंट के दस्तावेज वीडियों कॉलिंग पर दिखाने का संदेह
अविनाश से पूछताछ और तकनीकी जांच में एटीएस को चैटिंग और इमेज शेयरिंग के सबूत हाथ लगे हैं टीम को यह भी मालूम पड़ा है कि वह कई दस्तावेज वीडियो कॉलिंग के दौरान विदेश में बैठी महिला को पढ़वा भी देता था सेंट्रल एजेंसी एटीएस और मिलिट्री इंटेलीजेंस के जवाइंट इंटेरोगेशन के दौरान यह बातें सामने आई हैं उसका पकड़ा जाना इसलिये भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि उसे डिस्पैच इंट्रारेड और सुरक्षा प्रणाली में एक्सेस था। टीम को उसके घर से बालाकोट दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक आइटम मिले हैं।
कौन है अविनाश 
मूलतः बिहार के वैशाली जिले का रहने वाला 26 वर्षीय अविनाश महज 12वीं पास है। परीक्षा के बाद वह 10वीं बिहार रेजीमेंट में भर्ती हुआ है, अब तक यह रेजीमेंट दानापुर में थी। अप्रेल 2019 में इसे महू में बुलाया गया और वह पत्नी और बच्चे के साथ आर्मी परिसर में रह रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online