जीवाजी विश्वविद्यालय में खलबली मची, शासन के पास पहुंची भ्रष्टाचार की शिकायत और जांच शुरू

ग्वालियर. जीवाजी विश्वविद्यालय में आर्थिक अनियमितताओं और भ्रष्टाचार की शिकायत मप्र शासन के पास पहुंची है इसमें कुलपति और कुलसचिव पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया है। शासन ने इस शिकायत को गंभीरता से लिया है। संभाग स्तरीय समिति से इस पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। जेयू की शिकायत के संबंध में संभागायुक्त, ग्वालियर संभाग के पास शासन का पत्र आ गया है जिस पर उन्होंने जांच शुरू करा दी है। अपर आयुक्त ने इसको लेकर शिकायत कर्ता धर्मेन्द्र सिंह, निवासी भोपाल को उन दस्तावेज और अभिलेखों के साथ 17 मई को बुलाया है जिन तथ्यों के साथ कुलपति और कुलसचिव द्वारा भ्रष्टाचार करने की शिकायत की गई है।
एक पक्षीय जांच शुरू कर कार्यवाही की जाएगी
ई-मेल पर भी दस्तावेज भेजने की बात भी कहीं गई है। इस आशय के पत्र में यह भी लिखा है कि अगर शिकायतकर्ता उपस्थित नहीं होता है तो फिर यह माना जाएगा कि उसे कुछ भी नहीं कहना। एक पक्षीय जांच शुरू कर कार्यवाही की जाएगी। आपको बता दें कि शासन द्वारा शुरू कराई गई जांच से जीवाजी विश्वविद्यालय में खलबली मची हुई है।
अन्य अधिकारी भी घेरे में
जिन अनियमितताओं की जांच की जा रही है उसमें अन्य भी अधिकारी घेरे में जा सकते है। सभी अब यह पता करने में जुटे हैं कि आखिर यह शिकायत किसने कराई है क्योंकि शिकायतकर्ता को जेयू से जुड़े किसी न किसी व्यक्ति ने ही दस्तावेज व अभिलेख उपलब्ध कराए इसके भी विवि प्रशासन ने प्रयास शुरू कर दिए है क्योंकि सही तरीके से जांच हो गई तो गड़बडि़यों के कई मामले सामने आ सकते है जो विश्वविद्यालय अधिकारियों की मुसीबत खड़ी कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online