एससी एसटी एक्ट- सरकार के पास दो माह का समय नहीं तो चुनाव में भुगतना होगा खामियाजा-देवकीनंदन ठाकुर

ग्वालियर. एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ स्वाभिमान सम्मेलन का आयोजन वीरांगना लक्ष्मीबाई समाधि के ग्राउण्ड में किया गया। इसमें करणीसेना, क्षत्रिय महासभा, ब्राहम्ण महासभा, समेत ओबीसी समाज के लोगों ने एक्ट के विरोध में सम्मेलन में हिस्सा लिया। जिसके विरोध शहर भर मोटरसाईकिल रैली गयी थी । पूरे शहर में पुलिस हाईअलर्ट पर रहीं है। सभी थानों के थानों प्रभारी आयोजन स्थल पर उपस्थित रहें वहीं एसटीएफ के जवान भी सुरक्षा के लिये उपस्थित थे। सम्मेलन में एससी एसटी एक्ट जमक र विरोध हुआ रैली में भाग लेने के लिये मथुरा से आये प्रसिद्ध कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर भी आये हुए है। इस अवसर पर सभा उपस्थित वरिष्ठजनों ने कहा कि दलितों को भी एक एक्ट का विरोध करना चाहिये।
बीच सभा में इंटरनेट बन्द कर दिया गया
प्रसिद्ध कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर ने कहा है कि बिना जांच के अरेस्ट करने का कानून पाकिस्तान में भी नहीं है, हम सरकार के खिलाफ नहीं है और न ही नोटा के पक्ष में हैं, लेकिन न्याय के पक्षधर है। सभा में बड़ी तादाद में भीड़ जुटने से उत्साहित नेताओं ने कहा कि अब अगली महापंचायत का आयोजन भोपाल में किया जायेगा। एक्ट के खिलाफ वातावरण और लोगों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बीच सभा में इंटरनेट बन्द कर दिया गया।

एक्ट बदलने के लिये 2 माह का समय है अगले चुनाव में खमियाजा भुगतने के लिये तैयार रहें- देवकीनंदन ठाकुर
देवकीनंदन ठाकुर ने जैसे ही सभा को संबोधित करने के लिये मंच पर आये वैसे ही उनका जोरदार तालियां बजाकर स्वागत किया गया और ऐसा लगा कि पब्लिक उन्हीं को सुनने के लिये आये हैं। देवकीनंदन ठाकुर ने समाज में समानता का व्यवहार रखने की बात कहीं है। देवकीनंदन ठाकुर बोले -यह कानून काला कानून है इसका दुरूपयोग लोगों को फंसाने के लिये होगा। कल के लिये रंजीशन इस कानून का उपयोग किया जायेगा। लोगों की जिंदगी खराब करने के लिये । हम सरकार को 2 माह का समय दे रहे हैं। सरकार 2 माह में इस एक्ट में संशोधन कर ले, नही ंतो 2018-19 का चुनावों में हम उन्हें बता देंगे, जनता की ताकत क्या होती हैं। इस काले कानून को वापिस लेने पर मजबूर कर देंगे। यह कानून सवर्ण समाज के लिये जहर के समान हैं।
30 सितम्बर को सम्मलेन इन्दौर में होगा
30 सितम्बर को इन्दौर में एससी एसटी एक्ट के विरोध होने वाले सम्मेलन का एलान ग्वालियर के मंच से कर दिया गया है आयोजकों का कहना है कि हम सरकार को इस कानून को वापिस कराने में कोई कसर नहीं छोडेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

users online