अंतर्राज्यीय चोरों गैंग का एक लाख रूपये इनामी सरगना को क्राइम ब्रांच ने किया अरेस्ट

????????????????????????????????????

ग्वालियर 29 मई को गुलमोहर सिटी कैम्पस में2 फ्लैटो में चोरी की घटना हुई थी। एक गुजरात नम्बर की गाडी जीजे12बीएफ-9196 गाडी.गुलमोहर सिटी घटना स्थल के पास देखना पाया गया जो कि संदेह के घेरे में थी।
कैसे पहुंची पुलिस चोरों तक
अतः थाना विश्वविधालय एवं क्राईम ब्रांच की टीम ने गुजरात नम्बर की गाडी को शहर में सर्च किया तो शहर में प्रवेश करने वाले टोल प्लाजा पर गुजरात नम्बर की कोई गाडी शहर मे नही मिली परन्तु उसी रंग एवं हुलिये की दूसरी गाडी उसी कम्पनी की डीएल9सी-एबी-9362 स्विफ्ट डिजायर कलर ग्रे दिखी तस्दीक करने पर पाया गया वह गुजरात नम्बर की गाडी व दिल्ली नम्बर की गाडी में भी समानता पाई गई। डीएल9सी-एबी-9362 के पते पर पहुचे तो उक्त गाडी मालिक से पता किया तो उसने ब्रोकर के माध्यम से गाडी देवेन्द्र नागर नाम के व्यक्ति को करीब 4 माह पहले बेच दी थी देवेन्द्र नागर का नाम पता लेकर पता किया गया तो उक्त व्यक्ति आदतन अपराधी एवं हत्या के केश में लिप्त पाया गया जिससे ये और सिध्द हो गया कि गुलमोहर की चोरी में उक्त व्यक्ति और उसके ही अन्य साथी हो सकते है जिस पर क्राईम ब्रांच की टीम ने अत्यन्त मेहनत के साथ देवेन्द्र नागर व घटना में लिप्त अन्य साथियो का भी नाम पता एवं पहचान निकालने में कडी मेहनत व मुश्कत से सफलता हासिल की बाद देवेन्द्र के साथी सुरेन्द्र सिंह जाट, महेश जाट एवं मुकेश जाट का पता एवं हुलिया अब क्राईम ब्रांच के हाथ में था।
उक्त आऱोपीयो पर सभी राज्यो से 28 से भी ज्यादा चोरी नकबजनी के मामले पाये गये राजस्थान के अलवर से देवेन्द्र नागर एक लाख का ईनामी भी रहा है करीब 2 महीने क्राईम ब्रांच व थाना विश्वविधालय की संयुक्त टीम दिल्ली में रहकर उक्त आरोपीयो की पतारसी की एवं अपने व्यवहार से दिल्ली में भी मुखबिर बनाये एक दिन डीएल नम्बर की गाडी नोएडा के 51 सेक्टर के हाईवे से गुजरती हुई दिखी तो दिल्ली के बनाये गये मुखबिर ने सूचना दी कि उक्त गाडी 51 सेक्टर के पास से गुजर रही है तब क्राईम ब्रांच की टीम एक टीम सेक्टर 1 में ही उपस्थित थी उस जगह पहुचकर तस्दीक करने पर पाया कि उक्त गाडी डी सेक्टर की तरफ गई है टीम ने डी सेक्टर के चप्पे चप्पे को बारीकी से सर्च कराना शुरु किया तो उनकी मेहनत रंग लाई एक होटल के पोर्च में उक्त गाडी का खडा होना पाया गया रिसेप्शन पर पता किया कि बाहर खडी डीएल9सी-एबी-9362 गाडी किसकी है तब रिसेप्शन वाले ने बताया कि 3-4 लोग रुके हुए है। तो दिल्ली क्राईम ब्रांच को भी सूचना देकर मौके पर बुलाया गया फिर ग्वालियर क्राईम ब्रांच एवं थाना विश्वविधालय की संयुक्त टीम के साथ दिल्ली क्राईम ब्रांच की टीम ने मिलकर कमरे में दविश दी तो 3 आरोपी को होटल के कमरे से पकड लिया जिनको थाना क्राईम ब्रांच ग्वालियर आकर विधिवत गिरफ्तार किया जाकर पीआर पर न्यायालय पेश किया वाद पुलिस अभिरक्षा में लगातार पूछताछ से चोरी गये माल चोरो से बरामद किया जो करीब 7 लाख का बरामद किया गया।

कड़ी मशक्कत से चोरों तक पहुंची टीम
एसआई दीपक गौतम, हरेन्द्र राजपूत, गंभीर सिंह, एएसआई अजय पाल, महिला आरक्षक अर्चना कंसाना, दीपक राजावत, घनश्याम जाट, लोकेन्द्र कुशवाह, अनिल राजावत, एसआई हरेन्द्र सिंह राजपूत, धर्मेन्द्र शर्मा,  जैनेन्द्र गुर्जर राहुल यादव, प्रदीप यादव ,कपिल पाठक आदि ने अंतर्राज्यीय चोरों को दबोचने में सफलता मिली।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*