इतिहास रचा- प्रदेश में रेप के आरोपी को महज 4 दिन में उम्रकैद की सजा सुनाई

दतिया. विशेष न्यायाधीश हितेंद्र द्धिवेदी ने बुधवार को 6 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के आरोपी को मात्र 4 दिन में उम्रकैद की सजा सुनाई है। न्यायाधीश ने अपने फैसले में महाभारत के अध्याय का जिक्र करते हुए कहा कि आरोपी झांसी के मोतीलाल अहिवार को अंतिम सांस तक जेल में रखा जाए।
मप्र का पहला मामला
प्रदेश में यह पहला मामला है जिसमें दुष्कर्म के मामले में न्यायालय ने महज डेढ़ दिन में ट्रायल खत्म कर 4 दिन में फैसला सुनाया। इससे पहले कटनी कोर्ट ने बच्ची के दुष्कर्म के आरोपी को 5 दिन में फांसी की सजा सुनाई थी। एसपी मयंक अवस्थी ने बताया कि ग्राम थरेट में 28 मई को विवाह कार्यक्रम था। 29 मई को तड़के 4 बजे शादी समारोह में जयमाला कार्यक्रम हो रहा था इसी बीच मोतीलाल बच्ची को दूल्हे की गाड़ी में फूल डालने के बहाने से बहला फुसलाकर ले गया। उसने स्कूल के बाथरूम में उसके साथ बलात्कार किया था। कोर्ट ने अपराधी पर लगाए अर्थदंड के रूप में 50 हजार रूपए पीडि़त को देने होंगे। इसक अलावा मप्र पीडि़त प्रतिकर योजना के तहत पीडि़ता को सहयता राशि प्रदान करने के भी आदेश दिए। यह राशि 5 लाख रुपए तक हो सकती है।
दूसरा मामला
जिला न्यायालय में फांसी की सजा के फैसले पर मुहर
जबलपुर. 4 साल की मासूम की दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाले आरोपी को मिली फांसी की सजा पर हाईकोर्ट ने भी मुहर लगा दी। चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस विजय शुक्ला की खंडपीठ ने कहा कि नाबालिगों के साथ दुष्कर्म के मामले बढ़ रहे हैं। ऐसी स्थिति में अदालतों की यह सामाजिक जिम्मेदारी है कि वह समाज को यह बताएं कि कानून ऐसे मुजरिमों का बचाव नहीं कर सकता।
टॉफी का लालच देकर दुष्कर्म किया फिर हत्या कीः शहडोल निवासी विनोद पर आरोप है कि उसने टॉफी और बिस्किट का लालच देकर मासूम की दुष्कर्म के बाद बेरहमी से हत्या कर दी थी। 13 मई 2017 को बच्ची अपने 2 साल छोटे भाई के साथ अपने घर के आंगन में खेल रही थी तभी विनोद उसे उठाकर ले गया और दुष्कर्म के बाद हत्या कर शव कचरे के ढेर में छिपा दिया था। पुलिस ने 15 मई 2017 को राहुल को गिरफ्तार कर लिया था। शहडोल की कोर्ट ने 9 माह की सुनवाई के बाद 28 फरवरी 2018 को फांसी की सजा सुनाई थी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*