करूणानिधि के पैतृक गांव में शोक की लहर, लोगों का रोे रोकर बुरा हाल

नागपट्टिनमभ. तमिलनाडू के पूर्व सीएम एम करूणानिधि के निधन की खबर उनके पैतृक गांव तिरूक्कुवलई पहुंचते ही वहां शोक की लहर दौडत्र गयी, बड़ी संख्या में लोग उनके पैतृक आवास पर पहुंचने लगे, गांववालों ने उनके आवास पर द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) अध्यक्ष की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित की। करूणानिधि का जन्म 3 जून 1924 को इसी गांव में हुआ था और उन्होंने यहीं अपना बचपन बिताया था गांव के बीचों बीच स्थित नीले और सफेद रंग के उनके घर में अब उनकी मां की प्रतिमा है उनके माता पिता मुथुवेलार नूलागम और अंजुगम पाडीप्पगम के नाम पर दो पुस्तकालय हैं।

इस घर में जोश से भरे हुए युवा करूणानिधि की दुर्लभ तस्वीरों का विशाल संग्रह है। करूणानिधि ने गांव के ही पंचायत यूनियन मिडिल स्कूल से प्राथमिक शिक्षा हासिल की थी उन्होंने अपने स्कूल में सुविधायें बेहतर करने के साथ यहां एक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और एक औद्यौगिक प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करने का आदेश दिया था। करूणानिधि वर्ष 2006-11 के दौरान जब मुख्यमंत्री थे तो वह दो बार अपने गांव आये थे बतौर मुख्यमंत्री वर्ष 2009 में वह अंतिम बार अपने गांव आये थे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*