रिलायंस का बाजार 11 वर्ष में दूसरी बार 100 अरब डॉलर के पार

मुंबई. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) 11 वर्ष बाद फिर 100 अरब डॉलर कंपनी बन गई। शेयर में 5 प्रतिशत तेजी की कारण से इसका मार्केट कैप गुरूवार को 6.90 लाख करोड़ 3 रुपए के पार पहुंच गया हैं। 18 अक्टूबर 2007 को भी रिलायंस 100 अरब डॉलर का मार्केट कैप हासिल कर चुकी थी। उस समय डॉलर का मूल्य लगभग 40 रुपए था। उस हिसाब से कंपनी का मार्केट वैल्यूशन उस समय लगभग 4.11 लाख करोड़ रुपए था। अभी सबसे अधिक मार्केट कैप वाली भारतीय कंपनी टीसीएस है। उसका मार्केट वैल्यूएशन 7.55 लाख करोड़ रुपए है। रिलांयस अभी टीसीएस से 65000 करोड़ रुपए पीछे छोड़ दिया है।
शेयर 52 हफ्ते के उछाल पर
आरआईएल 5 प्रतिशत उछाल के साथ बीएसई पर 1091 और एनएसई पर 1091.50 रुपए तक चढ़ा। इस साल यह 20 प्रतिशत रिटर्न दे चुका है। एक जनवरी को शेयर का भाव 911 रुपए था। रिलायंस का वैल्यूएशन 41 वर्ष में लगभग 69000 गुना बढ़ा है। 1977 में जब इसका आईपीओ आया तब मार्केट कैप 10 करोड़ रुपए था। अब यह 6.90 लाख करोड़ रुपए है।
3 माह में दूसरी भारतीय कंपनी 100 अरब डॉलर क्लब में
टीसीएस की मार्केट वैल्यू भी 23 अप्रैल को 100 अरब डॉलर (6.60 लाख करोड़) पहुंच गई। टीसीएस इस एलीट क्लब में शामिल होने वाली दूसरी भारतीय कंपनी और देश की पहली आईटी कंपनी बनी। अब रिलायंस दूसरी बार 100 अरब डॉलर क्लब में आई है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*