यूपी के गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या

लखलऊ. यूपी के गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी की सोमवार को बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई। पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में बागपत कोर्ट में आज बजरंगी की पेशी होनी थी। इसी वजह उसे रविवार की देर रात झांसी जेल से बागपत लाया गया था। ऐसा  बताया जा रहा हैं कि कुख्यात अपराधी सुनील राठी और विक्की सुनहेड़ा के साथ उसे अलग बैरक में रखा गया था। बागपत के जेलर, डिप्टी जेलर सहित 4 जेलकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है औैर इसके  न्यायिक जांच के भी आदेश दिए गए हैं।

29 जून को मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने कहा था मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक यह बात पहुंचाना चाहती हूं कि मेरे पति की जाना को खतरा है। उन्हें उचित सुरक्षा दी जाए। उनके फर्जी एनकाउंटर की साजिश रची जा रही है। यूपी एसटीएफ, पुलिस के अधिकारी और कुछ सफेदपोश षड्यंत्र कर रहे हैं कि उन्हें फर्जी एनकाउंटर में मार दिया जाए।

9 वर्ष पूर्व गिरफ्तारी हुई थी

मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश सिंह था। बजरंगी ने 1984 में लूट के बाद एक व्यापारी की हत्या कर दी। वह भाजपा नेता रामचंद्र सिंह और भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या में भी आरोपी था। उस पर 7 लाख रुपए का इनाम भी घोषित किया गया था। 29 अक्टूबर 2009 को दिल्ली पुलिस ने मुन्ना को मुंबई के मलाड इलाके इलाके से गिरफ्तार किया था। उसे अलग अलग जेलों में रखा गया था। पिछले एक वर्ष से वह झांसी की जेल में बंद था। 2012 में उसने जौनपुर की मडि़याहुं सीट से अपना दल के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा लेकिन हार गया। 2017 में बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने भी अपना दल के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा। सीमा भी चुनाव हार गई।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*